भाभी की सेक्सी गांड

भाभी की सेक्सी गांड

हेलो दोस्तों, Antarvasna मैं राज हु Kamukta मेरी उम्र ३५ के ऊपर है अभी और मेरे लिए सेक्स एक नशा है बीमारी है, जो मुझे १४ साल की उम्र से लग गयी थी, जब मैं हॉस्टल में था. मुझे तभी सेक्स कहनिया पढ़ने और ब्लू फिल्म देखने का शौक था. पहले मैं सेक्सी किताबे पढता था और जब इन्टरनेट आ गया, तब इन्टरनेट पर सेक्सी कहानिया पढ़ने लगा. मैंने २००४ में एक सेक्स डेटिंग की वेबसाइट ज्वाइन की. जिस पर मुझे बहुत सारे खट्टे – मीठे और कड़वे अनुभव हुए. मेरी बहुत से लोगो से फ़ोन पर बात हुई और बाद में, मैं कई लोगो से मिला भी, कुछ सही निकले और कुछ लड़की के बजाय लड़के भी निकले. लेकिन, मैंने वेबकैम और फ़ोन सेक्स का बहुत मज़ा लिया. आज मैं आपको अपने जीवन ऐसा ही सेक्स वृतांत सुना रहा हु. जो मैंने एक कपल के साथ किया. वो लोग एम्पी के एक शहर में थे और मैं इंदौर में.

उस डेटिंग वेबसाइट पर मेरा प्रोफाइल बहुत सेक्सी बना हुआ था और मैंने अपने रियल फोटो, नंगे फोटो भी डाले हुए थे. फिर के दिन चैट करते हुए, मैंने उस कपल को पिंग किया और उस आदमी से बात होने लगी. उन्होंने कभी किसी के साथ ३स्म नहीं किया था. लेकिन, वो आदमी बहुत एक्साइट था और चाहता था, कि कोई और उसकी बीवी को उसके सामने चोदे. उसकी बीवी इस बात के लिए तैयार नहीं थी. तो उसने मुझसे उसकी बात करवाई और मेरी कुछ बातो के बाद, वो तैयार हो गयी. मैंने उनको अपने शहर आने के लिए कहा और एक होटल में उनके लिए कमरा बुक करवा दिया और अपने लिए भी, बिलकुल उनके पड़ोस में. मुझे ये तो मालूम था, कि पति तो तैयार है, पर बीवी कितनी वो पता नही था. लेकिन पति ने अपनी बीवी को ३सम और कपल सेक्स की ब्लूफिल्म बहुत दिखाई थी.

मैं उस दिन फ्री था, तो समय से पहले ही पहुच गया. उनके २ छोटे बच्चे थे. मैं उनके लिए कुछ गिफ्ट भी ले गया था. मैंने शाम को एक बड़ी सी सिल्क चॉकलेट खा ली थी. चॉकलेट खाने से थोड़ा सेक्स का टाइम बड जाता है और कंडोम भी एक्स्ट्रा टाइम वाले ही लिए थे. फिर, मैं सो गया था; की अचानक से उसका फ़ोन आया. वो आ चुके थे और मुझे खाने के लिए बुला रहे थे. हम सबने मिलकर खाना खाया और आपस में बात करके थोड़ा कम्फर्ट हुए. फिर मैंने अपने रूम में चले गया और पति ने कहा, कि बच्चो के सोने के बाद, वो मेरे कमरे में आ जायेंगे. रात को करीब ११ बजे, मेरे दरवाजे पर खटखट हुई और वो दोनों मेरे दरवाजे खोलने पर अन्दर आ गये. पति टीशर्ट और बरमुड़े में था और पत्नी रेड कलर की सेक्सी नाईटी में.

हम तीनो साथ में ले गये. पत्नी हम दोनों के बीच में थे. हम तीनो ने ऊपर एक ही चादर ले ली थी. पत्नी अपने पति के ऊपर चढ़ गयी और उसे किस करने लगी. मैंने थोड़ी देर तो उनको देखा और फिर आगे बढकर उसके बदन को सहलाने लगा. किसी अजनबी के हाथ लगते ही, उसके मुझे से एक सिसक निकली. फिर मैंने उसके पति की और देखा और उसने मुझे हाँ में सिर हिला दिया. मैंने अपने हाथो से उसकी पत्नी की नाइटी का नाडा खोकर उसके ऊपर का भाग निकाल दिया और अब वो सिर्फ शमीज़ में थे और उसने अन्दर ब्रा और पेंटी नहीं पहनी थी. मैंने आगे बड़ते हुए, अपने हाथ उसके बूब्स पर रख दिए और उसके बूब्स को तेजी से मसलने लगा. अब उन दोनों के होठ आपस से छुट गये और वो बिस्तर पर गिर पड़ी.

पत्नी के बिस्तर पर गिरते ही, मैंने अपने होठो को उसके होठो पर रख दिया और उसके चेहरे को पकड़ लिया और मस्ती में चूसने लगा. मैंने अपनी जीभ उसके मुह के अन्दर डाल दी और उसकी लार को पीने लगा. मैंने अपने होठो को उसकी जीभ के इर्द-गिर्द लपेट लिया और चूसने लगा. उसके मुह से सिसकिया निकलने लगी थी और उसकी सांसे उनका साथ नहीं दे रही थी. मैंने एक ही झटके में अपने आप को नंगा किया और अपने सारे कपड़े उतार दिए. मेरा लंड को पागलो की तरफ झटके मार रहा था. फिर उसके पति ने भी अपने कपड़े उतारे और उसको अपने से चिपटा लिया. शायद पहली बार चुदाई की वजह से और अपनी पत्नी को गैर मर्द की बाहों में देखने की वजह से ऐसा महसूस कर रहा था. मैंने अपनी जीभ को उसके कंधो और गर्दन पर लगा दिया. मेरी जीभ अब मस्ती में पूरी की पूरी उसकी गर्दन पर चल रही थी. वो पगला रही थी और उसका शरीर झूम रहा था और वो कामुक सिसकिया भरने लगी थी अहाहह अहहः अहहहः ह्म्म्मम्म ह्म्म्मम्म उम्म्मम्म…

उसके पति के चेहरे पर एक उदासी आने लगी थी, फिर भी वो हम दोनों को देख रहा था. अचानक से उसकी पत्नी पलटी और मुझे अपनी बाहों में भर लिया और कसकर दबोच लिया. मैं तो हक्काबक्का रह गया. उसने अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और उसको दबाने लगी. मैंने अपने हाथ में उसका एक निप्पल पकड़ा और उसको अपनी जीभ से चाटने लगा. वो मस्ती में मचलने लगी थी. फिर मैंने अपनी पूरी जीभ से उसके शरीर को चाटा और एकदम से उसकी चूत पर आ गया. फिर मैंने अपने को नीचे खिसकाया और अपनी जीभ को उसकी चूत पर रख दिया और उसको मस्ती में चाटने लगा. मैं उसको मस्ती चाट रहा था. मेरी जीभ उसकी चूत पर चल रही थी और मेरी उंगलिया उसके गांड के छेद को दबा रही थी. उसके मुह से मस्ती भरी आहे फुट रही थी अहहाह अहहः अहहहः अहाहह्हा.. ऊऊओ मर गयी. वो अपने पति की बाहों में लिपटी हुई सिस्कारिया ले रही थी.

माहौल बहुत ही गरम हो गया था. वो दम से उठी और मुझे पीछे धक्का दे दिया और मेरे ऊपर आ गयी और मेरे को अपने हाथ से मसलने लगी. कुछ देर अपने हाथो से मेरे लंड को मसलने के बाद, उसने मेरे लंड पर कंडोम चढ़ाया और उसको अपने मुह लेकर चूसने लगी. उसने मेरे लंड को अपने होठो से कस लिया और अपने दातो को मेरे लंड पर गडा दिया और मस्ती में चूसने लगी. वो मस्ती में मेरे लंड को चूसने लगी थी. कुछ देर मेरे लंड को चूसने के बाद, मैंने उसे लंड निकालने का इशारा किया और वो अपने पति की छाती पर सिर रख कर लेट गयी और उसके पति ने अपनी उंगलिया उनके मुह में घुस दी और मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर सेट किया और एक जोरदार धक्का मारा. उसकी चूत कोई ख़ास टाइट नहीं थी और मेरा लंड एकदम से पूरा का पूरा उसकी चूत में उतर गया. उसने दर्द के मारे, अपने दांत अपने पति के हाथ में गडा दिए.

फिर उसने अपनी टांगो को कस कर बंद कर लिया और मैंने भी धक्के मारने शुरू कर दिए. वो भी अपने पति को पकडे हुए थी और अपनी गांड को हिलाकर मेरे हर धक्के का जोरदार जवाब दे रही थी. मैंने उसको करीब ३० मिनट तक चोदा. उस बीच वो करीब ३ बार झड़ चुकी थी. लेकिन, मैंने अभी तक नहीं पूरा हो पाया था. तो उसके पति ने मुझे अपना लंड निकालने को बोला. मैंने अपना लंड निकाला और उसको मुठ मारने को कहा. उसने ५ मिनट तक अपने टाइट हाथो से मेरे लंड की मुठ मारी तो एकदम से मेरा सारा पानी कंडोम में निकल गया. मैंने झटके से कंडोम निकाला और उसके साइड में गिर गया. वो अपने पति से चिपटी हुई थी और मैं उससे. मैंने अपने लंड को कुछ देर उसकी गांड पर रगडा और मज़ा लिया. फिर हम तीनो सो गये और फिर उसके पति ने मुझे रात में जगाया और मैंने उसको दुबारा से उसके सोते ही उसको चोदा. फिर अगले दिन, हम सब अपने – अपने घर चले गये.

दोस्तों, अब हम दोस्त है और मौका मिलने में मस्ती करते है. तो दोस्तों, कैसी लगी आपको मेरी ये कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *